आयुर्वेदिक नुस्खे व इलाज

आयुर्वेदिक नुस्खे व इलाज गंभीर बीमारियो जैसे मधुमेह,पथरी,अपेण्डिक्स,ब्लड प्रेशर आदि के आयुर्वेद इलाज से जुडी पोस्ट को पड़ने के लिए क्लिक करे.........
http://educhrome4u.blogspot.in/search/label/आयुर्वेदिक%20इलाज%20AAYURVEDIK?m=

इस लिंक में निम्न प्रकार की पोस्ट पड सकते हे

Kidney Stone गुर्दे की पथरी का इलाज
गुर्दे की पथरी का रामबाण इलाज : Kidney ki Pathri ke 10 Gharelu Nuskhe
गुर्दे में पथरी होना काफी दर्द भरा होता है, बहुत से लोग इस समस्या से अक्सर परेशान रहते है। Pathri का आकार हर व्यक्ति के शरीर में अलग होता है, छोटी पथरी पेशाब के रस्ते बाहर निकल जाती है पर अगर पथरी का आकार बड़ा हो तो वो मूत्र मार्ग से बहार नहीं निकल पाती, फिर पेशाब करते वक़्त दर्द और जलन महसूस होती है। इस लेख में हम पथरी का इलाज के घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपाय बता रहे है जिनके निरंतर प्रयोग से ऑपरेशन के बिना ही पथरी से छुटकारा पा सकेंगे। आइये जाने।

गुर्दे की पथरी का इलाज के घरेलू नुस्खे
Pathri Nikalne ke Upay : Kidney Stone Treatment in Hindi
1. पपीते की जड़ 6 ग्राम पीस ले, अब इसे 50 ग्राम पानी में अच्छे से घोल कर साफ़ कपडे से छान ले और मरीज़ को पीला दे। 21 दिन तक ये घोल रोगी को पिलाने पर पथरी गल कर पेशाब के रस्ते बाहर निकल जाएगी।
2. पथरचट्टा का 1 पत्ता, 4 दाने मिश्री मिला कर पीस ले और एक कप पानी के साथ हर रोज खाली पेट ले।
3. मुल्ली के पत्तों का रस 100 ग्राम की मात्रा में ले। रोजाना दिन में 2 से 3 बार इस रस को पीने से पथरी में फायदा मिलेगा।
4. आप पानी से भी पथरी का उपचार शुरू कर सकते है। रोजाना 5 से 6 लीटर पानी पिना अच्छा है और अगर बियर का सेवन कर सकते है तो इससे भी pathri ka ilaj करने में फायदा मिलता है।
5. हल्दी का प्रयोग पथरी में उत्तम है। 2 ग्राम गुड और 1 ग्राम हल्दी गाजर की कॅंजी के साथ खाने से पथरी गल कर निकल जाएगी।
6. पत्थरचट्टा के पत्तो को पानी में उबाल ले और काढ़ा बना कर पिये, इस उपाय को लगातार 2 हफ्ते करने से पथरी से निजात मिलेगी।
7. 250 ग्राम पानी में 20 ग्राम कूलथी डाल कर उबाल ले , जब पानी एक चौथाई रह जाए तब इसे उतार कर छान ले। ये पानी जब गुनगुना हो तब रोगी को पिलायें। 20 दिन लगतार ये उपाय दिन में 2 बार करने से पथरी घुल कर बाहर निकल जाएगी।
8. पुदीने की पत्तियों को पानी में उबाल कर पिने से पथरी में आराम मिलता है।
9. जामुन खाने से भी पथरी के रोगी को आराम मिलता है।
10. गुर्दे की पथरी के उपचार में विटामिन बी6 का सेवन काफी असरदार है, तुलसी के पत्तो में vitamin B6 अधिक मात्रा में होता है। तुलसी के पत्तों को चबा चबा कर खाया करे। किडनी को स्वस्थ और सेहतमंद रखना हो तो तुलसी के पत्तों को पानी मे उबाल कर पिये। इसके साथ तुलसी की चाय पीना भी काफी फायदेमंद है।
गुर्दे की पथरी का रामबाण इलाज
Kidney stone में पके हुए प्याज का रस पिने से भी आराम मिलता है। किसी बर्तन में 1 गिलास पानी डाले और 1 से 2 छोटे प्याज छील कर डाले और धीमी आंच पर पकाये। जब प्याज अच्छी तरह पक जाये तब इन्हें गैस से उतार ले और ठंडा होने के लिए छोड़ दे। ठंडा होने पर इसे मिक्सी में डाल कर पीस ले और छान ले और 3 दिन तक इसे पिये। इस उपाय से पथरी से जल्दी राहत मिलेगी।
Kidney की Pathri में बाबा रामदेव के आयुर्वेदिक उपाय
गुर्दे की पथरी निकलने के लिए Divya Ashmarihar Ras एक आयुर्वेदिक मेडिसिन है जो आप को baba ramdev की पतंजलि या किसी पंसारी की शॉप से मिल जाएगी। ये आयुर्वेद की दवा पथरी के टुकड़े कर के उसे मूत्र मार्ग से शरीर से बाहर निकालती है। एलोपैथी से किडनी की पथरी का treatment करना हो तो डॉक्टर पथरी निकालने के लिए ऑपरेशन की सलाह देते है, पर इस दवा के सेवन से आप पीते की पथरी और इसके दर्द से छुटकारा पा सकते है।
राजीव दिक्षित के उपचार से पथरी के दर्द का इलाज
2 चम्मच सेब का सिरका (Apple cider vinegar) ले और उसमे एक चम्मच नींबू का रस मिलाकर पियें। Kidney stone treatment के लिए ये अच्छा घरेलु उपाय है।
क्रॅनबेरी जूस (लाल रंग की खट्टी बेरी) पिने से पथरी के दर्द में काफी आराम मिलता है। एक गिलास क्रॅनबेरी जूस में एक चम्मच नींबू का रस मिला कर रोजाना पिये, इससे पथरी पेशाब के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाएगी।
1 गिलास आनार का जूस हर रोज पीने से गुर्दे की पथरी घुल कर पेशाब के रास्ते शरीर से बाहर निकल जाएगी।
1 गिलास अंगूर का रस रोजाना सुबह नाश्ते से पहले ले।
पथरी के उपचार में परहेज
जिस व्यक्ति के शरीर में पथरी हो उसे चुना कभी नहीं खाना चाहिये।
मसालेदार चीजें ना खाए।
शाकाहारी भोजन ही खाये, पथरी का इलाज होने तक मांसाहारी भोजन करने से बचे।
बीज वाली सब्जियां और फल न खाये।
साभार:
ddayaram.blogspot.com
hindi.kyakyukaise.com

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अध्यापक म्यूच्यूअल ट्रान्सफर के लिए जानकारी यहाँ दर्ज कीजिए

अध्यापक म्यूच्यूअल ट्रान्सफर के लिए दर्ज की गई जानकारी ऑनलाइन देखिए

म्यूच्यूअल ट्रान्सफर के लिए जिले वार जानकारी